best sharabi shayari

 

खा कर ठोकर ज़माने की फिर लौट आये मयखाने में

मुझे देख कर मेरे ग़म बोले बड़ी देर लगा दी आने में

 

Leave a Reply