Sorry Shayari

 

न नींद आती है मुझे न ख्वाब आता है मेरी नजर में तेरा शबाब आता है

इसकदर टूटी हुई है मेरी जिंदगी दर्द का शामों सहर सैलाब आता है

 

Leave a Reply